✅ Janmat Samachar.com© provides latest news from India and the world. Get latest headlines from Viral,Entertainment, Khaas khabar, Fact Check, Entertainment.

Draupadi Murmu and Yashwant Sinha

ज्यादातर भारतीयों का मानना है कि राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष में एकता का अभाव है- सर्वे

Advertisement

नई दिल्ली| एनडीए और विपक्षी खेमे दोनों ने मंगलवार को आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की। एनडीए ने झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को अपना राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया, वहीं विपक्षी दलों के एक समूह ने तृणमूल कांग्रेस के नेता और अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को आगामी राष्ट्रपति चुनावों के लिए अपना आम उम्मीदवार घोषित किया।

पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के भारत के अगले राष्ट्रपति बनने की दौड़ से बाहर होने के बाद सिन्हा के नाम को विपक्षी खेमे के राजनीतिक दलों ने अंतिम रूप दिया।

नई दिल्ली में राकांपा प्रमुख शरद पवार द्वारा बुलाई गई विपक्षी नेता की बैठक में सिन्हा के नाम की घोषणा की गई। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार पर चर्चा के लिए विपक्षी खेमे की बैठक में कांग्रेस पार्टी, राकांपा, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा, समाजवादी पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, एआईएमआईएम, राजद और एआईयूडीएफ ने भाग लिया।

Advertisement

भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए उम्मीदवार के खिलाफ कड़ा मुकाबला करने के लिए विपक्षी खेमे में दरार तब सामने आई जब कई क्षेत्रीय दल – टीआरएस, बीजद, आप, शिअद और वाईएसआरसीपी बैठक से दूर रहे। इससे पहले ये क्षेत्रीय दल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा 15 जून को बुलाई गई विपक्षी पार्टियों की बैठक में शामिल नहीं हुए थे।

सीवोटर-इंडियाट्रैकर ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी खेमे में एकता बनाने के वरिष्ठ विपक्षी नेताओं के प्रयासों के बारे में लोगों के विचार जानने के लिए आईएएनएस की ओर से एक राष्ट्रव्यापी सर्वे किया।

सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, अधिकांश भारतीयों का मानना है कि विपक्ष अभी भी विभाजित है और उनके राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के एनडीए उम्मीदवार को कड़ी टक्कर देने की संभावना नहीं है। सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, जहां 71 प्रतिशत भारतीयों का मानना है कि विपक्षी खेमे में एकता का अभाव है, वहीं सर्वे के दौरान जवाब देने वालों में से केवल 29 प्रतिशत लोगों की इस मुद्दे पर अलग राय थी।

Advertisement

दिलचस्प बात यह है कि सर्वे के दौरान, एनडीए और विपक्षी दोनों मतदाताओं के बहुमत ने कहा कि विपक्ष अभी भी बंटा हुआ है। सर्वे के दौरान, एनडीए के 68 प्रतिशत मतदाताओं और 73 प्रतिशत विपक्षी समर्थकों ने कहा कि विपक्ष में एकता की कमी है।

सर्वे के दौरान, शहरी और ग्रामीण दोनों मतदाताओं के बहुमत ने विपक्षी खेमे में मतभेद के बारे में समान विचार साझा किए। सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक 74 फीसदी ग्रामीण मतदाता और 66 फीसदी शहरी मतदाताओं का मानना है कि विपक्षी राजनीतिक दल बंटे हुए हैं।

हैरानी की बात यह है कि सर्वे के दौरान सभी सामाजिक समूहों के अधिकांश उत्तरदाताओं ने कहा कि विपक्ष इस मामले पर बंटा हुआ है। सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, उच्च जाति के हिंदुओं (यूसीएच) के 71 प्रतिशत, अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के 72 प्रतिशत, मुसलमानों के 71 प्रतिशत, अनुसूचित जाति (एससी) के 64 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति के 77 प्रतिशत (एसटी) उत्तरदाताओं का ²ढ़ विश्वास है कि विपक्षी राजनीतिक दल अगले महीने होने वाले राष्ट्रपति चुनाव कार्यक्रम से पहले एकता विकसित करने में विफल रहे हैं।

Advertisement

सर्वे में आगे पता चला कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए एक उम्मीदवार को विपक्ष के उम्मीदवार के बारे में भारतीयों की राय में विभाजित है। सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, जहां 53 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि विपक्ष को राष्ट्रपति चुनाव के लिए खड़ा किया उम्मीदवार हटा लेना चाहिए, वहीं सर्वे में भाग लेने वालों में से 47 प्रतिशत इस भावना से सहमत नहीं थे।

इस मुद्दे पर राजनीतिक ध्रुवीकरण एनडीए और विपक्षी मतदाताओं द्वारा व्यक्त विचारों में स्पष्ट था। सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, जहां 64 प्रतिशत विपक्षी मतदाताओं ने विपक्षी राजनीतिक दलों को राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवार खड़ा करने के समर्थन में बात कही, वहीं एनडीए के 60 प्रतिशत मतदाताओं ने इस विचार का विरोध किया।

सर्वे के दौरान, विभिन्न सामाजिक समूहों के उत्तरदाताओं ने इस मुद्दे पर अलग-अलग राय साझा की। सर्वे के आंकड़ों के मुताबिक, जहां 62 प्रतिशत एससी, 71 प्रतिशत एसटी और 85 प्रतिशत मुस्लिम उत्तरदाताओं ने विपक्ष की ओर से खड़े किये गये राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के समर्थन में राय रखी, जबकि 63 प्रतिशत यूसीएच और 54 प्रतिशत ओबीसी उत्तरदाताओं ने विपक्ष के राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवार खड़ा करने के विचार के खिलाफ बात की।

Advertisement

–आईएएनएस

Advertisement