✅ Janmat Samachar.com© provides latest news from India and the world. Get latest headlines from Viral,Entertainment, Khaas khabar, Fact Check, Entertainment.

2022 में खत्म हो सकती है कोविड महामारी : डब्ल्यूएचओ

2022 में खत्म हो सकती है कोविड महामारी : डब्ल्यूएचओ

Advertisement

मॉस्को| रूस में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रतिनिधि ने कहा है कि अगर ओमिक्रॉन के बाद कोविड-19 का कोई बड़ा प्रकोप नहीं होगा, तो 2022 में महामारी का अंत हो सकता है। समाचार एजेंसी तास के साथ एक साक्षात्कार में मेलिता वुजनोविक के हवाले से कहा गया कि “हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि वायरस पूरी तरह से गायब हो जाएगा।”

“फिलहाल भविष्यवाणियां करना कठिन है, लेकिन हमें उम्मीद है कि अगर कुछ और नहीं होता है, तो महामारी 2022 में समाप्त हो सकती है।”

“महामारी के अंत का क्या मतलब है? इसका मतलब है कि कोई बड़ा प्रकोप नहीं होगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वायरस गायब हो जाएगा।”

Advertisement

उन्होंने कहा, “बड़ी संख्या में मामले आने का मतलब है कि वायरस म्यूटेशन करने में सक्षम है, इसलिए हम नहीं जानते कि कैसी स्थिति सामने आएगी। हालांकि, सतर्क रहते हुए आशा की जानी चाहिए कि ओमिक्रॉन के दुनियाभर में फैलने के बाद इसके बड़े प्रकोप खत्म हो जाएंगे।”

वुजनोविक के अनुसार, डब्ल्यूएचओ भविष्यवाणी करने की कोशिश कर रहा है कि यह कब होगा, लेकिन यह मुश्किल है, क्योंकि कई देश अब अपनी परीक्षण रणनीतियों में बदलाव ला रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ओमिक्रॉन स्ट्रेन बहुत संक्रामक था और तेजी से फैल रहा था, जबकि कुछ देशों के पास बिना लक्षणों वाले रोगियों की बड़ी संख्या को देखते हुए सभी का टेस्ट करने के लिए पैसे नहीं थे।

Advertisement

डब्ल्यूएचओ के दूत ने कहा, “जो तस्वीर हम देख रहे हैं, वह पूरी तरह से उस समय के मामलों की सही संख्या को नहीं दर्शाती है, जब महामारी फैल गई थी और डेल्टा तनाव फैलने लगा था।”

कई देशों ने ओमिक्रॉन वेरिएंट के नेतृत्व वाले कोविड की वृद्धि में गिरावट देखी है। मामलों में कमी के कारण प्रतिबंध भी हटा दिए गए हैं। स्वीडन, डेनमार्क और नॉर्वे ने सभी कोविड प्रतिबंध हटा दिए हैं, क्योंकि वे वायरस को एक ऐसी बीमारी के रूप में पुर्नवर्गीकृत करना चाहते हैं, जो समाज के लिए खतरा पैदा नहीं करता है। संभावना है कि यूके और यूएस जल्द ही इसका अनुसरण करेंगे।

हालांकि डब्ल्यूएचओ समेत कई विशेषज्ञों ने सावधानी बरतने का आग्रह किया है।

Advertisement

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम घेबियस ने हाल ही में कहा था कि किसी भी देश के लिए आत्मसमर्पण करना या जीत की घोषणा करना जल्दबाजी होगी।

–आईएएनएस

Advertisement

Advertisement